WELCOME TO SikhoIndia.IN >>Dear All, Wish U And Your Family A Very Happy Fastival<<< TODAY’S BEST OFFERS DEALS COUPON CODE & DEAL OF THE DAY .

Vajrasana Yoga कैसे करे और इसके क्या लाभ है?

No Comments

वज्रासन Vajrasana

स्वास्थ्य के लिए वज्रासन अभ्यास अति लाभदायक होता है वज्रासन ही एक ऐसा आसन है, जिसे भोजन या नाश्ता करने के उपरांत तुरंत भी किया जा सकता है। वज्रासन हर उम्र का व्यक्ति सरलता से कर सकता है। यह आसन दिन में किसी भी समय किया जा सकता है शरीर में रक्त प्रवाह दुरुस्त करने और पाचनशक्ति बढ़ाने के लिए वज्रासन एक उत्तम आसन बताया गया है। वज्रासन सुबह मेँ खाली पेट भी किया जा सकता है और भोजन के बाद भी किया जा सकता है। शुरुआत मेँ वज्रासन तीन से पाँच मिनट तक करना चाहिए। अभ्यास बढ़ जाने पर इसे अधिक समय तक (दस मिनट तक) भी किया जा सकता है। पैर दुखने लगें या कमर दर्द होने लगे उतनी देर तक वज्रासन मेँ नहीं बैठना है

वज्रासन कैसे करे How to do Vajrasana

  • घुटनों के बल खड़े हो जाएँ, और पुट्ठों को एड़ियों पर रखते हुए बैठे, पंजो को जमीन पर रखें पैरों की उँगलियाँ बाहर की ओर, पैरों के अंगूठे एक दूसरे को छूते हुए। 
  • दोनों एड़ियों के बीच बनी जगह में बैठे।
  • सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी को एक सीधी रेखा में रखे, हथेलियां जांघों पर, आकाश की ओर खुली हुई।
  • सांस छोड़े और पैरों को सीधा कर लें।
  • सांस छोड़े और पैरों को सीधा कर लें।


वज्रासन के फायदे Benefits of Vajrasana

  • पेट के नीचे के हिस्से में रक्त संचार को बढ़ाता है जिससे पाचन में सुधार होता है।
  • भोजन के पश्चात् वज्रासन में बैठने से भोजन का पाचन अच्छा होता है।अधिक वायु दोष या दर्द में आराम मिलता है।
  • पैर और जांघों की नसे मजबूत होती हैं।
  • घुटने और एड़ी के जोड़ लचीले होते हैं गठिया वात रोग की सम्भावना काम होती है।
  • वज्रासन में रीढ़ कम प्रयास से सीधी रहती है। इस आसान में प्राणायाम करना लाभकारी है और ध्यान के लिए तैयार करता है।


शरीर को सुडौल बनाए रखता है और वजन कम करने में मददगार हैं
महिलाओ में मासिक धर्म की अनियमितता दूर होती हैं
रीढ़ की हड्डी मजबूत होती हैं और मन की चंचलता को दूर कर एकाग्रता बढ़ाता हैं
अपचन, गैस, कब्ज इत्यादि विकारो को दूर करता हैं और पाचन शक्ति बढ़ाता हैं
यह प्रजनन प्रणाली को सशक्त बनाता हैं
सायटिका से पीड़ित व्यक्तिओ में लाभकर हैं
इस आसन को नियमित करने से घुटनो में दर्द, गठिया होने से बचा जा सकता हैं
पैरो के मांसपेशियों से जुडी समस्याओ में यह आसन मददगार हैं
इस आसान में धीरे-धीरे लम्बी गहरी साँसे लेने से फेफड़े मजबूत होते हैं
वज्रासन से नितम्ब (Hips), कमर (Waist) और जांघ (Thigh) पर जमी हुई अनचाही चर्बी (Fats) कम हो जाती हैं और उच्च रक्तचाप कम होता हैं

Vajrasana Shilpa Shetty


chitika

loading...
loading...